यूपी की राजनीति में नए संकेत, मायावती और बीजेपी में बढ़ रहीं नजदीकियां

यूपी में राज्यसभा की 10 सीटों पर होने वाले चुनाव से पहले ही सियासत नए रंग ले रही है. राज्यसभा चुनाव से पहले बीएसपी और बीजेपी में बढ़ती नजदीकियों ने राजनीति के बाजार को गरम कर दिया है. बीएसपी प्रमुख मायावती ने समाजवादी पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

मायावती ने यहां तक कह दिया कि अखिलेश के साथ गठबंधन करना हमारी बहुत बड़ी गलती थी. उन्होंने कहा कि वे सपा को हराने के लिए भाजपा को भी वोट कर सकती हैं. दरअसल राज्यसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने बसपा प्रत्याशी रामजी गौतम के खिलाफ अपना उम्मीदवार उतार दिया, हालांकि सपा प्रत्याशी प्रकाश बजाज का पर्चा खारिज हो गया.

बीजेपी का करेंगी समर्थन

वहीं जिस तरह से बीएसपी विधायकों ने अखिलेश यादव से मुलाकात कर बागी रुख अपनाया है. उससे मायावती अखिलेश से काफी नाराज हो गई हैं. मायावती ने सूबे के एमएलसी चुनाव में सपा को हराने के लिए बीजेपी को समर्थन करने की बात तक कह दी है.

मायावती ने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने के लिए हमने सपा से हाथ मिलाया था, लेकिन उनके परिवारिक अंतरकलह के कारण वो ज्यादा लाभ नहीं उठा पाए. उन्होंने कहा कि एमएलसी चुनावों में हम सपा प्रत्याशियों को बुरी तरह हराएंगे. इसके लिए हम अपनी पूरी ताकत झोंक देंगे.

बागियों पर की कार्रवाई

मायावती ने कहा कि इसके लिए यदि हमें बीजेपी या किसी अन्य पार्टी को वोट करना पड़ा, तो वो भी करेंगे. वहीं अखिलेश ने मायावती के विधायकों में ही फूट डाल दी है. जानकारी के मुताबिक बीएसपी के 7 विधायक बागी हो गए हैं. और वे समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकते हैं.

बागियों पर मायावती ने सख्त कार्रवाई करते हुए 7 विधायकों को निलंबित करने का ऐलान किया है. मायावती ने विधायक असलम राइनी, असलम अली, मुजतबा सिद्दीकी, हाकिम लाल बिंद, हरगोविंद भार्गव, सुषमा पटेल और वंदना सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *